Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
बिना दाने की सोयाबीन फसल देखकर किसान ने लगाई फांसी, किसान पर था लगभग आठ लाख का कर्ज - Aaj Ki Chitthi : पढ़ें हिंदी न्यूज़, Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी

बिना दाने की सोयाबीन फसल देखकर किसान ने लगाई फांसी, किसान पर था लगभग आठ लाख का कर्ज

रायसेन
बेगमगंज तहसील के ग्राम तुलसीपार निवासी एक किसान ने शनिवार शाम फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बताया जा रहा है कि किसान ने ऐसा सोयाबीन की फसल कटाई के दौरान उसमे दाने न देखकर किया। किसान पर करीब आठ लाख रुपए का कर्ज भी था। शनिवार की घटना है। किसान द्वारा आत्महत्या के बाद गांव में कोहराम मच गया।

यह है मामला

तुलसीपार निवासी लगीाग 40 वर्षीय किसान वीरेन्द्र सिंह यादव पुत्र हरिसिंह यादव तीन भाईयों में मंझला भाई था। तीनो भाईयों के संयुक्त खाते में लगभग 30 एकड़ जमीन बताई जा रही है। बीते दो-तीन वर्ष से फसलें लगातार बिगड़ रही हैं, जिससे किसान कर्ज के बोझ तले दबा हुआ था।

साहूकार से लिए चार लाख के कर्ज में बिक गई 2 एकड़ जमीन

पिछले वर्ष मई में उसने अपने इकलौते पुत्र अभिषेक का विवाह किया था, तब उसने साहूकारों से लगभग चार लाख का कर्ज लिया था। फसल बिगड़ जाने पर अपने हिस्से की दस एकड़ कृषि भूमि में से दो एकड़ कृषि भूमी बेचने के बाद भी साहूकारों के कर्ज से मुक्ति नहीं मिली। इसके अलावा किसान पर बैंक का लगभग सात लाख रुपए का कर्ज भी बताया जा रहा है। इस वर्ष लगातार बारिश से उड़द पूरी तरह बरबाद हो गई, पठार की भूमी पर बोई सोयाबीन की कटाई मजदूर लगाकर शुक्रवार को कराई थी। शनिवार को कटी फसल को एकत्रित करवाने के बाद थ्रेसिंग कराकर देखा तो उसमें नाम मात्र का सोयाबीन निकलने पर किसान घबरा गया। इसी बीच दोपहर में बारिश होने लगी, तब किसान ने अपने मजदूरों भोजन करने के लिए घर भेज दिया। फिर नीचे वाले खेत पर चला गया। उसे मजदूरों को को भी पैसा देना अखर रहा था। इसी सदमें में उसने एक छोले के पेड़ पर फांसी का फंदा बनाकर आत्महत्या कर ली। मृतक किसान वीरेंद्र सिंह का एक पुत्र के अलावा दो पुत्रियां भी हैं।

कर्ज माफी का नहीं मिला लाभ

मृतक के छोटे भाई राजेश यादव ने बताया कि सोयाबीन की फसल से उपज नहीं निकलने से उनका भाई परेशान हो गया था। बैंक का लगभग सात लाख और साहूकार का लगभग चार लाख रुपए का कर्ज था। सरकार द्वारा घोषित दो लाख रुपए की कर्जमाफी का लाभ भी उसे नहीं मिला था। इसी चिंता में भाई वीरेंद्र सिंह यादव ने आत्महत्या कर ली।

Aaj kichitthi

Read Previous

छोटे कॉलोनाइजर्स को बढ़ी राहत अब 10 बीघा से कम जमीन पर कर सकेंगे प्लाटिंग, बार के लिए 10 कमरों की अनिवार्यता भी की खत्म

Read Next

वसैया माता के दर्शनों को जा रहे विजयपुर के वीरमपुर के आदिवासियों से भरे ऑटो को ट्रक ने मारी टक्कर,2 की मौत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *