कैलारस जनपद की दुकानों पर 3.38 लाख का किराया बाकी,दुकानों में कारोबार करने वाले लोगों ने पांच साल से अदा नहीं किया किराया - Aaj Ki Chitthi : पढ़ें हिंदी न्यूज़, Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी
  • November 24, 2020

कैलारस जनपद की दुकानों पर 3.38 लाख का किराया बाकी,दुकानों में कारोबार करने वाले लोगों ने पांच साल से अदा नहीं किया किराया

3.38 lakhs rent left in Kailaras district shops, people doing business in shops have not paid rent for five years

कैलारस।

जिले की जनपद पंचायत के सामने स्थित दुकानों मेें कारोबार करने वाले लोग नियमित किराये का भुगतान नहीं कर रहे हैं। अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जनपद पंचायत की दुकानों के किराये का बकाया बढक़र 3 लाख, 38 हजार रुपए हो चुका है।
जनपद पंचायत की कुछ दुकानों का किराया पिछले पांच वर्ष से अदा नहीं किया गया है। इतनी लंबी अवधि से किराया जमा नहीं करने वाले आठ दुकानदार हैं। कैलारस जनपद पंचायत ने वर्ष 1994 में एमएस रोड के किनारे कुल 13 दुकानों का निर्माण कराया था। यह सभी दुकानें बोली लगाकर तीस हजार रूपये में खरीदी गई थीं। 28 वर्ष पहले जनपद पंचायत ने सभी दुकानों का किराया 100 रुपए प्रतिमाह निर्धारित किया था। लेकिन अप्रैल 2016 से किराया बढ़ाकर 1000 हजार रुपये कर दिया गया।

किराया बढ़ा दिए जाने के बाद आठ लोगों ने अब तक पैसा जमा नहीं किया है। अधिकृत तौर पर मिली जानकारी के अनुसार सिर्फ 5 दुकानदार ही हर माह पैसा जमा कर रहे हैं। जिनमें महेश कुमार गर्ग का अप्रैल 2020 तक का किराया जमा है। वहीं संदीप उपाघ्याय, विशम्भर सिंहल, कमला गुप्ता व पुष्पा आर्य पांच लोगो ने भी चार कुछ समय पहले तक किराया जमा कराया है। इसके विपरीत 8 दुकानदार ऐसे हैं जिन्होंने 2016 से किराया नही भरा है। दुकानों का किराया न मिलने के कारण जनपद पंचायत के कई जरूरी काम प्रभावित हो रहे हैं।

नोटिस की भी अनदेखी की

किराया भुगतान के लिए जनपद पंचायत की ओर से दुकानदारों को नोटिस भी दिए जाते रहे हैं, लेकिन इस ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया। बताया गया है कि किराया वसूली के लिए अब तक पांच बार नोटिस जारी किया जा चुका है। लेकिन सख्त कार्रवाई नहीं की गई, इसलिए दुकानदार किराया भुगतान में आनाकानी करते आ रहे हैं।

दूसरों को दे रखी हैं किराये पर

एक हकीकत यह भी है कि जनपद पंचायत ने जिन लोगों के नाम पर दुकानें अलॉट की थीं, उन्होंने दूसरे लोगों को इन्हें किराये पर दे रखा है। इसके बदले वे लोग प्रतिमाह तीन हजार से सात हजार तक किराया वसूल कर रहे हैं। खास बात यह कि खुद मोटा किराया वसूल करने के बाद भी वे जनपद पंचायत को किराये का भुगता नहीं कर रहे।

किस पर कितना बकाया

  • -जगदीस पुत्र अमृतलाल धाकड़ की दो दुकानों पर 65000 हजार बकाया है।
  • -सुरेश कुमार पुत्र पुन्नालाल गौड़ पर 40000 हजार बकाया है।
  • -भवर सिंह पुत्र नारायण सिंह पर 36000 हजार रुपए बकाया है।
  • -बनवारी पुत्र खचेरी लाल वैश्य 40000 हजार रुपए बकाया है।
  • -शिवचरन पुत्र जगन्नाथ शिवहरे पर 30000 हजार बकाया।
  • -कुलदीप सिंह और धर्मवीर सिंह प्रत्येक पर 66000बकाया है।

करेंगे बेदखली की कार्रवाई

सीईओ कैलारस एपी प्रजापति जनपद का कहना है कि  जो लोग किराया भुगतान नहीं कर रहे, उनसे मालिकाना हक छीनकर बेदखल किया जाएगा। यदि सात दिन के भीतर किराया जमा नहीं किया तो कार्रवाई शुरू कर देंगे।

aajkichitthi

Read Previous

श्योपुर में कोरोना रोगी के अंतिम संस्कार को गई टीम को रोकने पहुंची महिलाओं ने किया हंगामा

Read Next

मुरैना में दीपावली पर पटाखों की बिक्री के लिए स्थान तय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com