प्रदेश में गौ-वंश रक्षा को कार्य योजना में प्राथमिकता- शिवराज - Aaj Ki Chitthi : पढ़ें हिंदी न्यूज़, Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी
  • November 26, 2020

प्रदेश में गौ-वंश रक्षा को कार्य योजना में प्राथमिकता- शिवराज

Priority in action plan for cow-dynasty defense in the state- Shivraj

मध्यप्रदेश। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने कहा कि प्रदेश में गौवंश के संरक्षण और संवर्धन के लिये अधिकाधिक प्रयास किये जाएंगे। इस दिशा में प्रभावी कार्ययोजना तैयार की जाकर उसका मैदानी क्रियान्वयन भी सुनिश्चित किया जाएगा। साथ ही प्रदेश में गौवंश रक्षा को कार्य योजना में प्राथमिकता दी जावेगी। राज्य सरकार की महत्वपूर्ण प्राथमिकताओं में गौ-वंश रक्षा शामिल है।

मुख्यमंत्री  की पहल पर मध्यप्रदेश में गौ-संरक्षण और गौ-संवर्धन के प्रयासों को मूर्तरूप दिया जा रहा है। इस सिलसिले में जहां पूर्व में चैहान की पहल पर मध्यप्रदेश में देश का प्रथम गौ अभ्यारण प्रारंभ हुआ वहीं अब समाज की भागीदारी के साथ गौ-संरक्षण और संवर्धन के प्रयासों को जमीन पर उतारा जाएगा। मध्यप्रदेश में गौ-कैबिनेट का गठन और गौ-अभ्यारण में गौ-सेवा विशेषज्ञों की भागीदारी के नवीन उपक्रम प्रारंभ हुए हैं। गौ-वंश रक्षा के लिए विशेषज्ञों के अनुभव का लाभ मध्यप्रदेश को मिलेगा।

सीएम शिवराज ने प्रदेश में गौ-पालन और गौ-उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए गोपाष्टमी के दिन गौ-अभ्यारण जाकर वहां गौ-पूजन का निर्णय लिया है। देशी नस्ल की गायों को गौ-पालन में बढ़ावा देने, गौ-काष्ठ लकड़ी को बेहतर विकल्प के रूप में प्रचारित कर उपयोग में लाने, गौ-दूध से विभिन्न सामग्री का निर्माण और बिक्री, गौ-मूत्र उत्पादों को बढ़ावा और गौ-अभ्यारण आधुनिक गौ-अनुसंधान केन्द्र प्रारंभ करने के कार्यों को प्राथमिकतापूर्वक किया जाएगा। इन प्रयासों से कृषि क्षेत्र को भी लाभ मिलेगा। किसानों और पशुपालकों के आर्थिक उन्नयन का मार्ग प्रशस्त होगा।

प्रदेश में ऐसे गौ-वंश जो गांवों और खेतों से भटकते हुए अन्य क्षेत्रों में पहुंच जाते हैं उनके आश्रय के लिए गौ-शालाएं और शेड भी निर्मित किए जा रहे हैं। स्व-सहायता समूहों को गौ-शालाओं के रख-रखाव का दायित्व दिया जा रहा है। गौ-वंश रक्षा के लिए मुख्यमंत्री गौ-शाला योजना में किसान कल्याण और कृषि विभाग और पशुपालन विभाग आर्थिक सहायता भी उपलब्ध करवाता है। चारागाह विकास, गौ-शालाओं में पेयजल प्रबंध के लिए बोरवेल और निकट क्षेत्र में सरोवर निर्माण के प्रयास भी बढ़ाए जाएंगे।

छह विभागों की प्रमुख सहभागिता

गौ-कैबिनेट के निर्णयों के क्रियान्वयन के लिए कृषि, पशुपालन, वन, राजस्व, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, गृह विभाग की प्रमुख सहभागिता रहेगी। गौ-कैबिनेट के अध्यक्ष मुख्यमंत्री चैहान हैं। सदस्यों में मंत्रीगण डॉ. नरोत्तम मिश्र, कुंवर विजय शाह, कमल पटेल, डॉ. महेन्द्र सिंह सिसोदिया और प्रेम सिंह पटेल शामिल हैं।

 

aajkichitthi

Read Previous

किसान स्वराज संगठन ने कि कार्यक्रमों की समीक्षा, संगठन के विस्तार कि बनाई कार्ययोजना

Read Next

सीएम शिवराज 23 नवम्बर को ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत स्व-सहायता समूहों के खातों में डालेंगे 150 करोड़ रूपये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com