Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
मध्यप्रदेश का असली गब्बर जो लोगों की नाक काटता था पुरे प्रदेश की पुलिस थी परेशान - Aaj Ki Chitthi : पढ़ें हिंदी न्यूज़, Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी

मध्यप्रदेश का असली गब्बर जो लोगों की नाक काटता था पुरे प्रदेश की पुलिस थी परेशान

मध्य प्रदेश के बीहड़ों में 50 के दशक में गब्बर उर्फ़ गबरा नाम का असली डाकू भी था, जिसका खौफ़ दूर-दूर तक था और तीन राज्यों की पुलिस ने उनके नाम पर 50 हज़ार रुपए का इनाम रखा हुआ था.

कहा जाता है कि डाकू गब्बर सिंह ने एक प्रण लिया था कि वो अपनी कुल देवी के सामने 116 लोगों की कटी नाक की भेंट चढ़ाएगा, क्योंकि एक तांत्रिक के मुताबिक़, अगर वो ऐसा करता तो पुलिस या किसी और की गोली से नहीं मरेगा.

इस तरह वो कुल 26 लोगों की नाक काट चुका था जिसमें पुलिसवाले भी शामिल थे.

गब्बर सिंह के किस्से दर्ज हैं केएफ रुस्तमजी की डायरी में, जो 50 के दशक में मध्य प्रदेश के पुलिस महानिरीक्षक थे.

रुस्तमजी रोज़ाना डायरी लिखा करते थे, जिसे रुस्तमजी की अनुमति से पूर्व आईपीएस अधिकारी पीवी राजगोपाल ने एक क़िताब की शक्ल में उतारा- ‘द ब्रिटिश, द बैंडिट्स एंड द बॉर्डरमैन.’

शोले के गब्बर की कहानी सीधे-सीधे असली गब्बर की कहानी से नहीं ली गई है, लेकिन फिल्म के लेखक सलीम ख़ान मध्य प्रदेश के खूँखार डाकुओं की कहानी से वाकिफ़ थे, क्योंकि उनके पिता मध्य प्रदेश पुलिस में थे.

भिंड के डांग गाँव में 1926 में असली गब्बर उर्फ़ गबरा का जन्म हुआ था. 1955 में गाँव छोड़ गब्बर सिंह डाकू कल्याण सिंह गूजर के गैंग में शामिल हो गया और कुछ महीने बाद ही अपना गैंग बना लिया.

रुस्तमजी ने डायरी में लिखा है कि भिंड, ग्वालियर, इटावा, ढोलपुर में गब्बर का इतना ख़ौफ था कि उसके बारे में कोई भी गाँववाला जानकारी देने को तैयार नहीं था और पुलिस के लिए उसे पकड़ना मुश्किल हो गया था.

उलटे डाकुओं के साथ मुठभेड़ में पुलिस को ही ज़्यादा नुकसान झेलना पड़ता था.

ये वो दौर था जब चंबल में कोई 16 गैंग थे और प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू तक इसे लेकर काफ़ी चिंतित थे.

आख़िरकर गब्बर सिंह को ख़त्म करने का ज़िम्मा 1959 में युवा पुलिस अधिकारी राजेंद्र प्रसाद मोदी के कंधों पर आया, जो उस समय डिप्टी एसपी थे.

मोदी ने उसी साल कुख्यात डकैत पुतलीबाई के ख़िलाफ़ हुए अभियान में भी हिस्सा लिया था.

अपनी डायरी में रुस्तमजी लिखते हैं, “गब्बर के ठिकाने के बारे में नवंबर 1959 में मोदी को रामचरण नाम के एक गाँववाले (जिसके बच्चे की जान मोदी ने बचाई थी) ने जानकारी दी थी.”

सुबह पौ फटने से पहले रामचरण मोदी के घर आया और कहा- “पूरो गैंग बैठे हो, सबको ख़त्म कर डालो.”

पुलिस और डकैतों के बीच ज़बर्दस्त संघर्ष हुआ. मोदी रात ढलने से पहले ऑपरेशन ख़त्म करना चाहते थे.

लड़ते-लड़ते मोदी गैंग के काफ़ी करीब चले गए. उन्होंने दो ग्रेनेड फेंके और डाकुओं पर हमला किया.

हालांकि एक दफ़ा ग्रेनेड की सेफ़्टी पिन जैम हो गई थी. इस बीच डाकुओं की तरफ से गोलीबारी जारी थी.

ग्रेनेड के प्रभाव से गब्बर सिंह का जबड़ा बुरी तरह जख्मी हो गया था.

बाद में ग्वालियर डिवीज़न के कमिश्नर ने आकर राजेंद्र प्रसाद मोदी से कहा, “तुम डाकुओं के इतने पास क्यों चले गए. तुम मर भी सकते थे. तुम पागल हो.”

जवाब किताब में रुस्तमजी देते हैं, “बहादुर और पागल आदमी में फ़र्क होता है. अगर मोदी उस समय वो पागलपन नहीं दिखाते तो वो इस बहादुरी से काम नहीं कर पाते.”

जिस तरह गब्बर सिंह का ख़ात्मा हुआ उसके एक दिन बाद यानी 14 नवंबर को नेहरू का 70वां जन्मदिन था.

रुस्तमजी लिखते हैं कि उन्हें समझ में नहीं आ रहा था कि नेहरू को क्या तोहफ़ा दिया जाए.

रुस्तमजी छह साल तक नेहरू के मुख्य सुरक्षा अधिकारी रह चुके थे.

जब 13 नवंबर की शाम को गब्बर सिंह का ख़ात्मा हुआ तो मध्य प्रदेश पुलिस की ओर से इस ख़बर को तोहफ़े के तौर पर पेश किया गया.

Aaj kichitthi

Read Previous

गुना से सिंधिया तय!, ग्वालियर से प्रियदर्शनी सिंधिया का नाम आगे, नरेन्द्र सिंह मुरैना से लड सकते हैं लोकसभा

Read Next

‘कहां राजा भोज, कहां गंगू तेली” ये कहावत जिस MP के महान राजा के लिए कही राजा भोज का इतिहास जाने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *